Celebrating Great Writing

Category: Javed Akhtar

प्यार मुझसे जो किया तुमने तो क्या पाओगीमेरे हालात की आंधी में बिखर जाओगी रंज और दर्द की बस्ती का मैं बाशिन्दा हूँये तो बस मैं हूँ के इस हाल में भी ज़िन्दा हूँख़्वाब क्यूँ देखूँ वो कल जिसपे मैं…

हम तो बचपन में भी अकेले थे सिर्फ़ दिल की गली में खेले थे इक तरफ़ मोर्चे थे पलकों के इक तरफ़ आँसुओं के रेले थे थीं सजी हसरतें दुकानों पर ज़िंदगी के अजीब मेले थे ख़ुद-कुशी क्या दुखों का…

दूर तक चारों तरफ़ फैले थेमोहरेजल्लादनिहायत सफ़्फ़ाक       (सफ़्फ़ाक = बेदर्द)सख़्त बेरहमबहुत ही चालाकअपने क़ब्ज़े में लिएपूरी बिसात                 (बिसात = शतरंज)उसके हिस्से में फ़क़त मात लिए        (फ़क़त…

ज़िल्लत-ए-ज़ीस्त या शिकस्त-ए-ज़मीर ये सहूँ मैं कि वो सहूँ साहब हम तुम्हें याद करते रो लेते दो-घड़ी मिलता जो सुकूँ साहब शाम भी ढल रही है घर भी है दूर कितनी देर और मैं रुकूँ साहब अब झुकूँगा तो टूट…

किस किस की आँखों में देखे मैं ने ज़हर बुझे ख़ंजर ख़ुद से भी जो मैं ने छुपाए कैसे वो सदमात लिखूँ तख़्त की ख़्वाहिश लूट की लालच कमज़ोरों पर ज़ुल्म का शौक़ लेकिन उन का फ़रमाना है मैं इन…

Back to top